रक्षा गोपाल का कामयाबी का मूलमंत्र, आखिर कैसे बनी वह सीबीएसई टॉपर

0
234

रविवार को सीबीएसई ने 12वीं के परीणाम घोषित कर दिए है और जैसी आशा लगाई जा रही थी वैसा ही वैसा हुआ है इस बार भी लडकियों ने बाजी मारी और साबीत कर दिया की वह किसी से कम नहीं और उन्हे क्योंकि आगे बढाना चाहिए। नोएडा कि  एमिटी इंटरनेशनल स्कूल में पडने वाली रक्षा गोपाल  ने 99.6 फीसदी मार्क्स हासिल किए हैं. रक्षा को 500 में से 498 नंबर आए हैं और अपने माता-पिता को नाम रोशन किया है।

आइए हम आपको कुछ बाते बताते उनके बारें में वह कैसे उन्हें यह कामयाबी मिली मूलमंत्र क्या है, सपना क्या है, कौन है प्रेरणा और खास बात क्यों पसंद उन्हे पीएम नरेन्द्र मोदी………

अपनी कामयाबी का श्रेय किसको देने चाहती है?

मैं अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और अपने अध्यापको को देना चाहती हूँ जिन्होने मेरी हर प्रकार की सहायता की मुझे हमेशा सपोर्ट किया मुझे मेरी समस्याओं को दूर करने में मदद की।

आपका भविष्य में क्या सपना है?

मैं भविष्य एक आईएफएस अफसर बनना चाहती हूँ और हम आपको बता दें कि रक्षा के पिता गोपाल श्रीनिवासन गुजरात स्टेट पेट्रोलियम कॉरपोरेशन में चीफ फाइनेंसर ऑफिसर हैं. जबकि, मां रजनी गोपाल गृहणी हैं।

कौन से कॉलेज से करना चाहती है ग्रेजुएशन ?

रक्षा ने सरल भाषा में जवाब दिया कि उन्होने अभी तक किसी कॉलेज के बारे में नही सोचा है पर वह कहती कि मैं डीयू से पॉलिटिकल साइंस में ऑनर्स करना चाहती हूँ और इकनॉमिक्स भी मेरा पसंदीदा विषय है।

आपकी कामयाबी का मूल-मंत्र क्या हैं?

रक्षा ने बताया की मैंने परीक्षा से के कुछ महीनो पहले टेस्ट पेपर हल करना शुरू कर दिया था। और इसी की मदद से मुझे प्रश्नों को सही जवाब देने की प्रैक्टिस हो गई थी. उन्हें ये उम्मीद तो थी कि परीक्षा के बाद अच्छे नंबर आएंगे. लेकिन, टॉप करने की उम्मीद नहीं थी।

अन्त में रक्षा गोपाल ने बताया की उन्हें प्रधान मंत्री नरेंन्द्र मोदी बहुत ही पसन्द है और ‘बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ’ अभियान से काफी प्रभावित हैं। वह चाहती है कि देश में सभी को समान मौका मिलना चाहिए लड़के-लड़कियों में भेदभाव नहीं करना चाहिए।

रक्षा गोपाल को भविष्य के लिए बहुत सारी शुभकामनाएं।

Click Here to Share This on Whatsapp


Whatsapp Twitter Facebook Google+

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY