इंसान हो या जानवर, हर कोई अपने परिवार से प्यार करता है। वास्तव में, परिवार हमारे जीवन का आधार है। हम सभी अपने ही परिवार में पैदा हुए हैं और यह हमारा परिवार है जो हमारा ख्याल रखता है और हमारा पालन-पोषण करता है। वास्तव में, यह वह परिवार है जो हमें पहली बार दुनिया के सामने लाता है और यह वह परिवार है जो हमारे सपनों को रंग देता है। जब परिवार में आग लगती है तो लोग अपनी जान की भी परवाह नहीं करते हैं। इसका ताजा उदाहरण हाल ही में देखने को मिला जब एक शख्स अपने परिवार को बचाने के लिए एक तेंदुए के पास भागा।

द न्यूज मिनट के मुताबिक, घटना हसन जिले के अरासीकेरे में हुई। राजगोपाल नाइक अपने बच्चे किरण और पत्नी के साथ बाइक पर कहीं जा रहे थे। इसी बीच एक तेंदुआ झाड़ियों से बाहर आया और उन पर हमला कर दिया। तेंदुए ने अपने बच्चे का पैर सीधे पकड़ लिया। अपने परिवार को मुसीबत में देखकर, राजगोपाल ने तेंदुए की गर्दन पकड़ ली और उसकी गर्दन तक जाने नहीं दिया।

इस हादसे में राजगोपाल, उनकी पत्नी और बच्चा सभी गंभीर रूप से घायल हो गए। इसके बाद स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे। तीनों को फिर अस्पताल ले जाया गया। तेंदुआ मर गया। वन विभाग ने तेंदुए की लाश को निकाल लिया। इस घटना के होने के बाद, राजगोपाल ने कहा कि अगर उन्होंने तेंदुए को नहीं मारा, तो वह उसे और उसके परिवार को जीवित नहीं छोड़ेंगे। उस मामले में उनके पास और कोई चारा नहीं था। इसलिए उसे तेंदुए को मारना पड़ा।

Use your ← → (arrow) keys to browse

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY