जलमहल का एक ऐसा रहस्य जो 300 साल पानी में डूबे रहने के बाद भी नहीं हुआ ख़राब

0
10

 जयपुर, शहर से दूर शांत और सुरमय वातावरण में अवस्थित एक महल जो प्रकृति और मनुष्य के अनूठे संगम को दर्शाता है। आज इंसान ने कितनी भी तरक़्क़ी कर ली हो लेकिन जब उन्हें मानसिक तनाव से राहत चाहिए होता है तो वे प्राकृतिक की तरफ ही भागते है।इसे कहा जाता है आप अपने वजूद से नही भाग सकते। Jalmahal Case:court Demands Original Appointment Letter From PP - जलमहल  मामला: स्पेशल पीपी को ओरिजनल नियुक्ति पत्र पेश करने के निर्देश | Patrika  Newsवैसे राजस्थान तो महलों,छतरियों और स्मारकों के लिए है फेमस है पर जलमहल की बात ही कुछ अलग है। इसके अलावा भी राजस्थान में ऐसे कई स्थान है जो 21वीं सदी में भी ये स्थान रहस्य बने हुए है। आज हम आपको बताते है जल महल के रहस्य की। इस इमारत की तीन मंजिल 300 साल से पानी में डुबी हुई है और बिलकूल भी खराब नहीं हुई है।जयपुर में स्थित है एक ऐसी झील, जहां पर जाने से इंसान बदल जाता है जलमहल के बारे में राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर यूनिवर्सिटी बीटेक ग्रेजुएट नीता सिंह का कहना है कि इस महल का निर्माण 300 साल पहले आमेर के महाराज ने करवाया था। बता दें कि यह 15वीं शताब्दी में जिन जगहों में अकाल पड़ने पर आमेर के शासक ने बांध बनाने का निश्चय किया था Jal Mahal Declared Protected Area - जलमहल का क्षेत्र संरक्षित घोषित |  Patrika Newsताकि आमेर और अमरगढ़ के पहाड़ों से निकलने वाली पानी को इकट्ठा किया जा सके और पानी के निकास के लिए पानी के भीतर तीन आंतरिक दरवाजे बनाए गए और मानसागर झील बनाकर तैयार की गई। आज लोग इसकी सुदंरता को देखने के लिए अक्सर नाव में बैठकर इसकी सैर किया करते है।झील में तैरता एक रहस्यमयी महल: जलमहल - Tripoto आगे बताते चले कि राजा सवाई जयसिंह ने इस झील का निर्माण इसलिए करवया था क्योंकि राजा अपने रानियों के साथ पानी के बीच में शाही स्नान कर सके। देखा जाए तो ये पांच मंजिला इमारत है लेकिन इसकी चार मंजिल हमेशा पानी में ही डूबी रहती है।

Use your ← → (arrow) keys to browse

Click Here to Share This on Whatsapp

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY