विलुप्त होने वाले धर्म के लोगों को इस देश में रहने के​ लिए मिली है शरण

0
30
An aerial view of Angkor Wat, Cambodia. The world's largest religious monument and an architectural masterpiece, it is the apogee of classical Khmer style. Built between 1113 and 1150 by King Suryavarman II, it was both city and temple, the capital of the Empire and the State Temple dedicated to the god Vishnu. Surrounded by a broad moat, it covers 200 hectares (1.5 km by 1.3 km) and is a microcosm of the Hindu universe.

जयपुर,इस दुनिया में बहुत से देश ​है जो अपनी एक अलग विशेषता या जीवनशैली के चलते चर्चा का विषय बने रहते है लेकिन इंडिया एक एक ऐसा देश है जो अपनी सभ्यता,संस्कृति के लिए पूरे विश्व में फेमस है।यहां की जीवनशैली को देखकर दूसरे देशो के लोग भी यहां आकर इसे अपनाने लगे है जिसके चलते इस देश कह एक अलग ही पहचान बन गई है।यहां किसी प्रकार का कोई भेदभाव आपको देखने को नहीं मिलेगा
लेकिन क्या आपको पता है किहिंदुस्तानी किसी भी मामले में किसी भी प्रकार से कम नहीं है इसके लिए उन्होने इसे प्रूव भी किया है।आज हम आपको इंडिया के बारे में ऐसी बाते बताने जा रहे है जिनके बारे में जानकर आपको बहुत ही ज्यादा हैरानी होगी क्योंकि इस बारे में शायद ही कोई जानता होगा।जी हां वही सबसे पहले जीरो का अविष्कार भी भारतीय ‌गणितज्ञ आर्यभट्ट जी ने किया था कहा जाता है की शून्य का आविष्कार भारत में पांचवीं शताब्दी के मध्य में किया गया था जिसके बाद ही इस संख्या को प्रचलन में लाया गया।इसके अलावा बटन, ट्रिगोनोमेट्री,पेंटियम चिप,बीजगणित और शैंपू का आविष्कार भी सबसे पहले इंडिया में ही हुआ था।हमारे देश में हर धर्म के लोग आपको आसानी से देखने को मिल जाएगे क्या आपको पता है कि विलुप्त होने वाला पारसी धर्म के लोग भी हमारे यहां ​ही रहते हैै।ये तकरीबन बीस पच्चीस हजार सालो से यहाँ रह रहे हैं इनकी और भारत में उनकी कुल आबादी 70 हजार के आसपास बताई जा रही है। यहां के फेमस मंदिर जिसे हम स्वर्ण मंदिर के नाम से जानते है ​क्या आपको पता है कि इस गुरूद्वारे में तकरीबन एक लाख लोगों को फ्री में खाना खिलाया जाता है।यहां हर प्रकार के धर्म के इसांन की सेवा भी की जाती है बिना किसी प्रकार की छुआछूत के।

Use your ← → (arrow) keys to browse

Click Here to Share This on Whatsapp

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY